Thursday, June 10, 2021

तारे हैं दूर आसमां में

तारे हैं दूर आसमां में 

और जमीं पे हम,

बस, इक सितारा छूने का 

अरमां लिए हुए।


सबको कहाँ मिलते हैं घर, 

वादी में गुलों की।

काँटों के घरौंदों में भी, 

रहना तो सीखिए।


अच्छा किया, तुमने मेरी 

वफा पे शक किया,

कुछ और सबक सीखने थे, 

सीख ही लिए।


इस मोड़ से ऐ जिंदगी,

चल राह बदल लें,

मिलने के जो मकसद थे,

सभी हमने जी लिए ।


उठ्ठी लहर सागर से, 

किनारे पे मर मिटी।

गहराइयों के राज 

किनारों ने पढ़ लिए।


क्यूँ इस तरहा से कैद में, 

कटती है जिंदगी,

हैं दर भी, दरीचे भी,

जरा खोल लीजिए। 


है उम्र के नाटक का, 

अभी अंक आखिरी।

ना भूल सकें लोग, 

इस तरहा से खेलिए। 






12 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ११ जून २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार प्रिय श्वेता।

      Delete
  2. है उम्र के नाटक का,

    अभी अंक आखिरी।

    ना भूल सकें लोग,

    इस तरहा से खेलिए। .... लाज़वाब!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय विश्वमोहन जी।

      Delete
  3. 'उठी लहर सागर से
    किनारों पर मर मिटी
    गहराइयों के राज
    किनारों ने पढ़ लिए।'उत्कृष्ट रचना।

    ReplyDelete
  4. उठ्ठी लहर सागर से,

    किनारे पे मर मिटी।

    गहराइयों के राज

    किनारों ने पढ़ लिए।

    वाह! हर बंद ही उत्कृष्ट है, सुंदर सृजन के लिए बधाई मीना जी!

    ReplyDelete
  5. अच्छा किया, तुमने मेरी

    वफा पे शक किया,

    कुछ और सबक सीखने थे,

    सीख ही लिए।

    यूँ तो इसे ग़ज़ल भी कहा जा सकता है ।। बस चार लाइन की जगह दो लाइन में बात कहीं जाय तो । ये शेर सबसे ज्यादा पसंद आया ।
    बाकी तो है ही बहुत खूब

    ReplyDelete
  6. सबको कहाँ मिलते हैं घर,

    वादी में गुलों की।

    काँटों के घरौंदों में भी,

    रहना तो सीखिए।

    वाह !! क्या बात है मीना जी,लाजबाब.....आज के इस दौर में ये सीखना ही होगा,सादर नमन मीना जी

    ReplyDelete

  7. है उम्र के नाटक का,

    अभी अंक आखिरी।

    ना भूल सकें लोग,

    इस तरहा से खेलिए..वाह,जीवन के प्रति सार्थक प्रेरणा देती उत्कृष्ट रचना।बहुत बधाई मीना जी ।

    ReplyDelete
  8. दर हैं दरीचे हैं ... खोलने की ज़रुरत है ...
    हर छंद बखूबी अपनी बात रखता हुआ ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
  9. ना भूल सकें लोग इस तरह खेलिए...
    क्या खूब!

    ReplyDelete
  10. उठ्ठी लहर सागर से,

    किनारे पे मर मिटी।

    गहराइयों के राज

    किनारों ने पढ़ लिए।

    वाह!!!
    लहर प्यार में मर मिट रही किनारों के प्यार से वास्ता ही नहीं... ।
    वाह!!!
    लाजवाब सृजन।

    ReplyDelete