Wednesday, October 28, 2020

कितना और मुझे चलना है ?

जीवन की लंबी राहों में

पीछे छूटे सहचर कितने !

कितनी यात्रा बाकी है अब ?

कितना और मुझे चलना है ?


कितना और अभी बाकी है, 

इन श्वासों का ऋण आत्मा पर !

किन कर्मों का लेखा - जोखा,

देना है विधना को लिखकर !

अभी और कितने सपनों को,

मेरे नयनों में पलना है ?

कितना और मुझे चलना है ?


अस्ताचल को चला भास्कर

और एक दिन गया गुजर !

कितने और पड़ाव रह गए ?

सहज प्रश्न यह, अचरज क्योंकर ?

बाकी कितने अनजानों से,

मुझको और यहाँ मिलना है ?

कितना और मुझे चलना है  ?


यूँ तो, इतनी आसानी से

मेरे कदम नहीं थकते हैं,

लेकिन जब संध्या की बेला

पीपल तले दिए जलते हैं !

मेरे हृदय - दीप  की, कंपित

लौ पूछे, कितना जलना है ?

कितना और मुझे चलना है ?







32 comments:

  1. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय विश्वमोहनजी।

      Delete
  2. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 30-10-2020) को "कितना और मुझे चलना है ?" (चर्चा अंक- 3870 ) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है.

    "मीना भारद्वाज"

    सादर सूचनार्थ - आपकी रचना की प्रथम पंक्ति शुक्रवार की चर्चा के शीर्षक के रूप में मंच की शोभा बढ़ायेगी
    ....
    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस सम्मान के लिए बहुत बहुत आभार आदरणीया मीना जी।

      Delete
  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ३० अक्टूबर २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस सम्मान के लिए बहुत बहुत धन्यवाद प्रिय श्वेता। बहुत सा स्नेह भी।

      Delete
  4. बस चलते जाना है - कब तक किसे पता!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर आपकी उपस्थिति को मैं अपनी और इस रचना की उपलब्धि मानती हूँ आदरणीया दीदी। हृदय से आभार आपका !

      Delete
  5. यूँ तो, इतनी आसानी से
    मेरे कदम नहीं थकते हैं,
    लेकिन जब संध्या की बेला
    पीपल तले दिए जलते हैं !
    मेरे हृदय - दीप की, कंपित
    लौ पूछे, कितना जलना है ?
    कितना और मुझे चलना है ?
    - अत्यंत ही प्रभावशाली रचना का सृजन हुआ है आपकी लेखनी से। इस गतिमान जीवन में अनथक चलना जितना आवश्यक है शायद उतना ही आवश्यक है एक गहन चिंतन। आपको नमन करते हुए साधुवाद व शुभ-कामनाएँ आदरणीया मीना जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी सुंदर टिप्पणी से इस रचना की सार्थकता को विस्तार मिला है। हृदय से धन्यवाद देती हूँ आदरणीय पुरुषोत्तम सिन्हा जी।

      Delete
  6. यही तो किसी को पता नहीं होता कि कितना चलना है
    -किसी की लाठी छीन जाती
    -किसी छौने से उसका छत
    जब तक साँसें हैं बची बस आत्मा जगी रहे

    सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर आपकी उपस्थिति को मैं अपनी और इस रचना की उपलब्धि मानती हूँ आदरणीया दीदी। हृदय से आभार आपका !

      Delete
  7. Replies
    1. आपकी 'वाह' यानि रचना सार्थक हुई आदरणीय जोशी सर। बहुत बहुत आभार आपका !

      Delete
  8. Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद प्रिय शिवम।

      Delete
  9. आदरणीया मैम ,
    सादर नमन। आपकी यह रचना बहुत ही सुंदर और इसके भाव श्रीमद्भागवत महापुराण में आत्मा के वर्णन की याद दिलाते हैं। बहुत ही भावना से लिखी गयी रचना के लिए हृदय से आभार व सादर नमन। मेरा आपसे अनुरोध है कृपया मेरे ब्लॉग पर भी आएँ , मैं एक कॉलेज छात्रा हूँ और कविताएं लिखती हूँ। आपके आशीष व् प्रोत्साहन के लिए आभारी रहूंगी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार प्रिय अनंता। आप भी बहुत अच्छा लिखती हो। आपका ब्लॉग फॉलो कर लिया है।

      Delete
  10. Replies
    1. बहुत सारा स्नेह एवं आभार अनुराधा जी !

      Delete
  11. Replies
    1. आदरणीय शान्तनु जी, बहुत बहुत धन्यवाद इन प्रेरक शब्दों के लिए।

      Delete
  12. अस्ताचल को चला भास्कर
    और एक दिन गया गुजर !
    कितने और पड़ाव रह गए ?
    सहज प्रश्न यह, अचरज क्योंकर ?
    बाकी कितने अनजानों से,
    मुझको और यहाँ मिलना है ?
    कितना और मुझे चलना है ?
    बहुत सुंदर सृजन प्रिय मीना, जीवन के अनुत्तरित प्रश्नों के उत्तर खोजता हुआ! बहुत अनोखा लिख रही हो आजकल. सस्नेह शुभकामनायें 🌹❤❤🌹🌹

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रिय रेणु, मैं तो अनोखा नहीं सामान्य ही लिख रही हूँ। अनोखी तो आप हैं जो इतनी व्यस्तता के बावजूद ना केवल बहुत सारी रचनाओं को पढ़ने का बल्कि उन पर अपनी बहुमूल्य टिप्पणी और विचार देने का समय निकाल लेती हैं। ये बहुत बड़ी बात है। सस्नेह।

      Delete
  13. जीवन का फलसफा।
    यह सवाल अपने आप से भी होता है और उस विधाता से भी।
    अच्छी रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी उपस्थिति से मेरा मनोबल बढ़ता रहता है और रचना की सार्थकता/निरर्थकता दोनों ही पर आपके विचार सदैव मार्गदर्शन करते हैं। कृपया आप आते रहिए आदरणीय सर। बहुत बहुत धन्यवाद।

      Delete
  14. पूर्णतः छंदबद्ध ऐसी कविता जिसका शब्द-शब्द मर्मस्पर्शी है । ऐसे काव्य का सृजन तो कोई अत्यन्त प्रतिभाशाली (एवं साथ ही अत्यन्त संवेदनशील) व्यक्ति ही कर सकता है । अभिनंदन आपका ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत अच्छा लगा यह जानकर कि मेरी रचना आपको पसंद आई। आपके प्रेरक शब्दों से मेरा उत्साहवर्धन हुआ। बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय जितेंद्र माथुर जी।

      Delete
  15. बहुत ही सुंदर मीना जी मन की गहराईयों में उतरता चित
    और अभी ---सच नहीं मालूम किसी को कि जीवन और अभी कितना और क्या बाकी है ,जलना महकना ढलना उगना ? सुंदर सृजन प्रश्न पूछता स्वाभाविक सा काव्यात्मकता सहज सरस सुंदर।

    ReplyDelete
  16. वाह !बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर रचना, मीना दी।

    ReplyDelete
  18. बहुत ही ह्रदय स्पर्शी रचना |शुभ कामनाएं |

    ReplyDelete