Thursday, November 26, 2020

स्वर्ण-से क्षण

स्वर्ण संध्या, स्वर्ण दिनकर

सब दिशाएँ सुनहरी !

बिछ गई सारी धरा पर

एक चादर सुनहरी !

आसमाँ पर बादलों में

इक सुनहरा गाँव है,

स्वर्ण-से क्षण, स्वर्ण-सा मन,

स्वर्ण-से ये भाव हैं ।


सोनपरियों-सी सुनहरी,

सूर्यमुखियों की छटा ।

पीत वस्त्रों में लिपटकर

सोनचंपा महकता। 

सुरभि से उन्मत्त होकर

नाचती पागल पवन !

पीत पत्तों का धरा पर

स्वर्णमय बिछाव है ।

स्वर्ण-से क्षण, स्वर्ण-सा मन,

स्वर्ण-से ये भाव हैं ।


सुनहरे आकाश से अब

स्वर्ण किरणें हैं उतरतीं ।

सुनहरी बालू पे जैसे

स्वर्ण लहरें नृत्य करतीं ।

पिघलता सोना बहे औ'

स्वर्ण - घट रीता रहे !

प्रकृति का या नियति का

यह अजब अभाव है।

स्वर्ण-से क्षण, स्वर्ण-सा मन,

स्वर्ण-से ये भाव हैं ।


हैं हृदय के कोष में,

संचित सभी यादें सुनहली ।

और अँखियों में बसी है

रात पूनम की, रुपहली।

तुम मेरे गीतों को, जलने दो 

विरह की अग्नि में !

आग में तपकर निखरना

स्वर्ण का स्वभाव है। 

स्वर्ण-से क्षण, स्वर्ण-सा मन,

स्वर्ण-से ये भाव हैं ।

----- ©मीना शर्मा


37 comments:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 27-11-2020) को "लहरों के साथ रहे कोई ।" (चर्चा अंक- 3898) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीया मीना जी

      Delete
  2. आग में तपकर निखरना
    स्वर्ण का स्वभाव है।
    वाह!! प्रिय मीना 👌👌👌👌
    स्वर्ण मन से उमड़े ये स्वर्ण भाव अद्भुत हैं। सुंदर शब्द चित्र जो सुनहरी साँझ का स्वर्णिम चित्र प्रस्तुत करता है।। मैं भी कई बार इस तरह की सुनहरी शामों का अवलोकन किया है पर शायद मैं कभी इतने सुंदर शब्दों में उसे ना पिरो पाऊँ। माँ शारदे भावों का ये प्रवाह अक्षुण रखे, मेरी यही कामना है। हार्दिक स्नेह के साथ शुभकामनायें ❤❤🌹🌹

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत सारा स्नेह व धन्यवाद प्रिय रेणु

      Delete
  3. सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय ओंकारजी

      Delete
  4. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका आदरणीय जोशी सर

      Delete
  5. Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीया ज्योति जी।

      Delete
  6. स्वर्ण संध्या, स्वर्ण दिनकर

    सब दिशाएँ सुनहरी !

    बिछ गई सारी धरा पर

    एक चादर सुनहरी !..मन मोह जाता है दी आपका सृजन।
    बहुत ही सुंदर सराहनीय।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्नेह प्रिय अनिता

      Delete
  7. स्वर्ण से दिपदिपाते भाव आप्लावित कर रहे हैं । अति सुन्दर ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत आदरणीया अमृताजी

      Delete
  8. स्वर्ण-से क्षण, स्वर्ण-सा मन,
    स्वर्ण-से ये भाव हैं...

    बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना 🙏

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आपका आदरणीया शरद जी। मेरा ब्लॉग फॉलो करने के लिए भी हृदय से धन्यवाद।

      Delete
  9. Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत आदरणीय यशवंत जी

      Delete
  10. तुम मेरे गीतों को, जलने दो
    विरह की अग्नि में !
    आग में तपकर निखरना
    स्वर्ण का स्वभाव है।
    स्वर्ण-से क्षण, स्वर्ण-सा मन,
    स्वर्ण-से ये भाव हैं ।
    लाजवाब गीत...बहुत ही अप्रतिम।
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीया सुधा जी

      Delete
  11. आदरणीया मैम , सब से पहले तो मेरे ब्लॉग पर आ कर मुझे अपना आशीष देने के लिए आपका हृदय अत्यंत आभार और प्रणाम। आपकी यह कविता पढ़ कर होठों पर अनायास ही मुस्कराहट आ जाती है। एक बहुत ही सुंदर शाम की छवि जिसको पढ़ते ही मन में शाम को आकाश में फैली लालिमा और अस्त हो रहे कुछ सुनहरे और कुछ नारंगी सूर्यदेव की छवि आ जाती है। शाम से जुड़े सारे भाव दर्शा दिये आपने ।
    मैं ने इस कविता को दो बारी पढ़ा , एक बार तो दोपहर में और दुसरी बार अभी शाम को सूर्यास्त देखते देखते, तो मन आनंद से भर गया। इतनी सुंदर रचना के लिए आपका हृदय से आभार और पुनः प्रणाम।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत प्रिय अनंता

      Delete
  12. बहुत सुंदर सृजन ।
    प्राकृतिक सौंदर्य के साथ सुंदर रचना।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीया कुसुम कोठारी जी

      Delete
  13. बहुत मधुर रचना...
    हार्दिक बधाई !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत आदरणीया शरद जी

      Delete
  14. सोनपरियों-सी सुनहरी,

    सूर्यमुखियों की छटा ।

    पीत वस्त्रों में लिपटकर

    सोनचंपा महकता।

    सुरभि से उन्मत्त होकर

    नाचती पागल पवन !


    अहा!
    कितना सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत आदरणीया सधुचंद्रजी

      Delete
  15. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत आदरणीया अनिताजी।

      Delete
  16. Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत सतीशजी।

      Delete
  17. Replies
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत मनोज जी।

      Delete
  18. बहुत सुन्दर शब्द विन्यास ... भावों की स्पष्टता रचना को गहन और सुन्दरता प्रदान कर रही है ... बाखूबी उतारा है प्राकृति और मन के भावों को ...

    ReplyDelete
  19. बहुत बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete