बुधवार, 25 नवंबर 2020

एक मुद्दत बाद....

एक मुद्दत बाद खुद के साथ आ बैठे

यूँ लगा जैसे कि रब के साथ आ बैठे !


कौन कहता है कि, तन्हाई रुलाती है,

हम खयालों में, उन्हीं के साथ जा बैठे।


वक्त, इतना वक्त, देता है कभी - कभी

इक ग़ज़ल भूली हुई हम गुनगुना बैठे।


लौटकर हम अपनी दुनिया में, बड़े खुश हैं

काँच के टुकड़ों से, गुलदस्ता बना बैठे ।


कोई कर लेता है कैसे, उफ्फ ! सौदा दोस्ती का

हम हलफ़नामे में, अपनी जाँ लिखा बैठे ।


एक अरसे बाद खोला, उस किताब को

फड़फड़ाते सफ़हे हमको, मुँह चिढ़ा बैठे। 


छाँव में  जिनकी पले, खेले, बढ़े,

उन दरख्तों पे क्यूँ तुम, आरी चला बैठे। 




37 टिप्‍पणियां:

  1. कौन कहता है कि, तन्हाई रुलाती है,

    हम खयालों में, उन्हीं के साथ जा बैठे।



    वक्त, इतना वक्त, देता है कभी - कभी

    इक ग़ज़ल भूली हुई हम गुनगुना बैठे...बहुत ही ख़ूबसूरती से मनोभावों को पिरोया है आपने...।सुंदर रचना...।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार एवं स्वागत आदरणीया जिज्ञासा जी

      हटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार (२६-११-२०२०) को 'देवोत्थान प्रबोधिनी एकादशी'(चर्चा अंक- ३८९७) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रिय मीना। खुद से संवाद करते मन से उमड़े हरेक शेर में कहानी छिपी हुई है।
    कोई कर लेता है कैसे, उफ्फ ! सौदा दोस्ती का
    हम हलफ़नामे में, अपनी जाँ लिखा बैठे
    बड़ी सादगी से लिखी गई इस रचना के लिए हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई
    ❤🌹❤🌹

    जवाब देंहटाएं
  4. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २७ नवंबर २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।

    सादर
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रभावशाली रचना का सृजन हुआ है आपकी लेखनी से। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ आदरणीया मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह स्वयं में जा बैठना एक आलोकिक अनुभूति है।
    बहुत सुंदर रचना हर बंध खुद का अवलोकन करता सा।

    जवाब देंहटाएं
  7. सभी अशआर खूबसूरत...अपने आप में मुकम्मल | बधाई स्वीकारें|

    जवाब देंहटाएं
  8. कौन कहता है कि, तन्हाई रुलाती है,

    हम खयालों में, उन्हीं के साथ जा बैठे।
    वाह! क्या बात है!!! सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय विमल जी, ब्लॉग पर स्वागत है आपका।

      हटाएं
  10. बहुत खूब ... हर शेर में मुख्तलिफ़ अंदाज़ और जुदा भाव ... दिल में सीधे उतारते हुए ... शानदार गज़ल ...

    जवाब देंहटाएं
  11. उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आदरणीय आलोक सिन्हा सर

      हटाएं
  12. लौटकर हम अपनी दुनिया में, बड़े खुश हैं
    काँच के टुकड़ों से, गुलदस्ता बना बैठे ।



    कोई कर लेता है कैसे, उफ्फ ! सौदा दोस्ती का
    हम हलफ़नामे में, अपनी जाँ लिखा बैठे

    वाह!!!
    कमाल की गजल....सीधे दिल को छूती...
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्नेहिल प्रतिक्रिया हेतु बहुत बहुत आभार प्रिय सुधा।

      हटाएं
  13. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल , दिल के जैसे सब पर्दे खोल बैठे ।

    जवाब देंहटाएं
  14. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (20-2-22) को 'तब गुलमोहर खिलता है'(चर्चा अंक-4346)पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  15. लौटकर हम अपनी दुनिया में, बड़े खुश हैं

    काँच के टुकड़ों से, गुलदस्ता बना बैठे ।

    वाह अप्रितम ,
    शानदार गजल

    जवाब देंहटाएं
  16. पढ़ते पढ़ते डूब गई आपके लेखन में... नाजुक हृदय की मलिका हैं आप... काश में भी कभी आपके जैसा लिखूँ।
    बहुत बहुत ही सुंदर।
    सादर स्नेह

    जवाब देंहटाएं